शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

हुस्न की बात...

हुस्न की बात,

तुमको देखा है जब से आँखों ने
और कोई चेहरा नजर नहीं आता
तुम हर नजर का ख़्वाब हो,
हर दिल की धडकन हो
कैसे तारीफ करता तुम्हारे हुस्न की
तुम्हारा चेहरा तो किताबी है,
कहाँ से आया इतना हुस्न....
जबाब में वे मुस्करा दिए और बोले-?
कुछ तो आपकी मोहब्बत का नूर है
कुछ कोशिश हमारी है
-----------------------------

DHEERENDRA,

18 टिप्‍पणियां:

  1. बसन्त के मौसम में बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये नूर और ये कोशिश दोनों बनी रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ,

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रदर्शित चित्र से भी अधिक सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 27-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने अपनी प्रस्तुति को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है । सदा सृजनरत रहें ।मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दरता को सुन्दर संजोया है..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  8. महब्बत का नूर अक्सर दूर से चमकता दमकता है ...
    बाखूबी लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्यार की इबारत है,तरुनाई का एहसास है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुछ तो है आपकी मोहब्बत का नूर....सही तो है ..सुंदरता देखने वालों की आँखों में होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर संवेदनशील भाव समेटेैं ,बहुत ही अच्छा लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपका ब्लॉग पर आकार मेरे भतीजे दक्ष को जन्मदिन पर शुभकामनाएं और बधाई दी उसके लिए आभारी हूं
    "AAJ KA AGRA BLOG"

    उत्तर देंहटाएं